LOGO CSIR
LOGO NEERI

परिचय

अनुसंधान एवं विकास:

पर्यावरण गुणवत्ता के पूर्वानुमान के लिए संख्यात्मक मॉडल का विकास और अनुप्रयोग

प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन के लिए भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस) और रिमोट सेंसिंग (आरएस) आधारित मॉडल एवं विश्लेषणात्मक उपकरण के विकास और अनुप्रयोग

जल आपूर्ति और सीवरेजसिस्टम के डिजाइन के लिए पर्यावरण प्रणालियों के डिजाइन, विस्तृत इंजीनियरिंग, लागत और प्रतिरुपणके विकास तथा अनुप्रयोग

पर्यावरण प्रणालियों के विश्लेषण और प्रबंधन के लिए उन्नत संख्यात्मक और ग्राफिक्स उपकरण (SPSS, MATLAB, ANN आदि) का अनुप्रयोग

http://www.neeri.res.in/neeri/sites/default/files/esdm.jpg 

यह संस्थान पर्यावरण गुणवत्ता के पूर्वानुमान के लिए संख्यात्मक मॉडल के विकास और आवेदन में शामिल है;प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन के लिए भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस) और रिमोट सेंसिंग (आरएस) आधारित मॉडल और विश्लेषणात्मक उपकरण के विकास और आवेदन; जल आपूर्ति और सीवरेज सिस्टम के डिजाइन के लिए पर्यावरण प्रणालियों के डिजाइन, विस्तृत इंजीनियरिंग, लागत और चित्र के प्रतिरुपणतथा आवेदन; पानी और अपशिष्ट उपचार प्रणालियों के डिजाइन के लिए पर्यावरण प्रणालियों के डिजाइन, विस्तृत इंजीनियरिंग, लागत और चित्रों के विकास और आवेदन; पर्यावरण प्रणालियों के विश्लेषण और प्रबंधन के लिए उन्नत संख्यात्मक और ग्राफिक्स टूल (SPSS, MATLAB, एएनएन आदि के अनुप्रयोग।

परियोजना

वर्तमान चालू परियोजना

  • मुंबई के मलजल निपटान परियोजना चरण- II के लिए व्यापक पर्यावरण प्रभाव आकलनप्रधान्य कार्य
  • जगनाथ पुरी में भूजल जलीय प्रणाली का अध्ययन और प्रदूषण से सुरक्षा
  • वाटरशेड में गैर-बिंदु स्रोत प्रदूषण आकलन के लिए जीआईएस-आधारित मॉडलिंग उपकरण का विकास
  • चयनित क्षेत्रों के पर्यावरण मीडिया की आकस्मिक क्षमता का आकलन प्रदूषण निगरानी, उत्प्रवास प्रणाली और डिवाइस
  • जल वितरण प्रणाली के जीआईएस-आधारित मानचित्रण और उच्च संदूषण संभावनाओं के लिए जोखिम प्रवण क्षेत्र के समेकित जोखिम आकलन
  • दामोदर नदी प्रणाली के लिए प्रदूषण अभ्यस्त रणनीतियाँ का विकास
  • सीएसआईआर- नेटवर्क प्रोजेक्ट - पर्यावरण पूर्वानुमान और प्रबंधन सीएमएम -20 के लिए बहु स्केल मॉडलिंग प्लेटफार्म

पूर्ण हुई परियोजना

  • उदयपुर में सीवरेज कार्यान्वयन परियोजना के लिए तकनीकी परामर्श और पर्यवेक्षण
  • जीआईएस आधारित जल वितरण प्रणाली अनुकूलन सॉफ्टवेयर
  • यमुना नदी के कायाकल्प के लिए पर्यावरण प्रबंधन योजना
  • उदयपुर के झील पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली के लिए पारिस्थितिकीय इंजीनियरिंग उपाय
  • जीआईएस आधारित पर्यावरणीय मॉडलिंग उपकरण का आंतरिक अनुसंधान एवं विकास परियोजनाओं का विकास
  • आगरा की जल आपूर्ति प्रणाली का विस्तार: पूर्व-डिजाइन लागत अनुमान
  • आगरा मास्टर प्लान के लिए अपशिष्ट जल संग्रह प्रणाली का डिजाइन

 

 

राष्ट्रीयप्रकाशन

 

ज्वारीय प्रवाह विश्लेषण और विज़ुअलाइजेशन सॉफ्टवेयर का विकास (जर्नल ऑफ जियो-मरीनसायंसेस)(आशीष शर्मा, आर विजय, आरए सोहनी, 41 (3), 199-202, 2012)
भारत के नागपुर शहर,चौराहों पर आवागमन के शोर स्तरों का मूल्यांकन और विश्लेषण(पर्यावरण विज्ञान और इंजीनियरिंग का जर्नल) (आरजी आर विजय, आर पोपट, एम पेसिस, ए शर्मा, 55 (2), 1 9 7-206, 2013)

अंतर्राष्ट्रीयप्रकाशन

 

  1. यातायात के शोरका पूर्वानुमान करने के लिए एडोप्रिटिव न्यूरो-फ़ज़ी इंफॉर्मेंस सिस्टम (इंटरनेशनल जर्नलऑफ कंप्यूटर अप्लीकेशन) (अशेश शर्मा, रितेश विजय, जीएल बोध, एलजी मलिक, वॉल्यूम 98, अंक 13, पीपी। 14-19, 2014)
  2. जीआईएस आधारित ध्वनि सिमुलेशन सॉफ्टवेयर का विकास (डीजीएनएसएस) (वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग अनुसंधान के अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका)(आशीष शर्मा, आर विजय, आरए सोहनी, 4 (12), 177-182, 2013)
  3. सतह जल गुणवत्ता मूल्यांकन (कंप्यूटर और भूविज्ञान) के लिए कंप्यूटर स्वचालित निर्णय समर्थन प्रणाली का विकास(आशीष शर्मा, माधुरी नायडू, आभा सरगांवकर, 51, 12 9 -134, 2013)
  4. शहरी परिवेश के लिए यातायातके ध्वनिके पूर्वानुमान मॉडल का विकास (शोर और स्वास्थ्य)
    (आशीष शर्मा, जी एल बोधे, जी शैमक, 16 (68), पीपी 63-67, 2014)

 

प्रशिक्षण कार्यक्रम

वर्ष 2002-2003 के लिए डीबीटी द्वारा प्रायोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम

बायोटेक्नोलॉजी सूचना प्रणाली (बीटीआईएस) के एक भाग के रूप में, दिनांक 23 से 25 अक्टूबर, 2002 को वितरित उप-केंद्र (डीआईएससी) नीरी में "माइक्रोबियल क्रियाकलापों के आकलन के लिए मॉडलिंग उपकरण" पर तीन दिन की कार्यशाला आयोजित की गई थी। माइक्रोबियलफिजियोलॉजी  एंड  डिसिशनमेकिंग, माइक्रोबियलकैपेसिटी एंड   वेस्टवाटरट्रीटमेंट, कैनेटीक्स  इन  माइक्रोबियलसिस्टम्स, बिजरेमेडिएशनऑफ़माइनस्पोइलडुम्प्सथ्रूइंटीग्रेटेडबलयोटेक्नोलोजिकलएप्रोच, एरातिओं  इन  एक्टिवेटिडस्लजप्रोसेस  एंड  माइक्रोबियलदेसल्फुरिज़तिओन, मैथमेटिकलऍप्लिकेशन्स  इन  एनवायर्नमेंटलसाइंसेस, मॉडलिंगबिओटेक्नोलोगिकl प्रोसेसेज, डाटा  बेसमैनेजमेंट, प्रोग्रामिंगटूल्स  एंड  लैंग्वेजेज एंड  कंप्यूटिंगथ्रूMATLAB .प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में कम्प्यूटेशनल लैब का काम तथा वास्तविक अनुभव भी सम्मिलित था। कार्यशाला के सभी 21 प्रतिभागियों में भारत के विभिन्न विषयों एवं संस्थानों में से थे।

पेटेंट / कापीराइट

शीर्षक"नॉन-प्वाइंट सोर्स पोल्यूशन इन वॉटरहेड में मूल्यांकन के लिएजीआईएस-आधारित मॉडलिंग टूल्स " (NutriL-GIS)"
लेखकआभा सरगांवकर एवं आशीश शर्मा

फाइल टू:IPMD, CSIR, INSOC बिल्डिंग 14, सत्संग विहार मार्ग, नई दिल्ली
फाइल दिनांक18 मई, 2010
कापीराइट संख्या 034CR2009

शीर्षकभूजल के कृत्रिम पुनर्भरण के लिए साइट चयन और संरचनात्मक सुझाव के लिए जीआईएस आधारित सॉफ्टवेयर
लेखकरीतेश विजयएंड आर.ए. सोहोनी
फाइल टूIPMD, CSIR, INSOC Building 14, SatsangVihar Marg, New Delhi
फाइल दिनांक:  18 मई, 2010
कापीराइट संख्या029CR2009

शीर्षकज्वारीय प्रवाह विश्लेषण और विज़ुअलाइज़ेशन के लिए सॉफ्टवेयर

लेखकआशीश शर्मा, रितेश विजय एंडआर. ए. सोहोनी
फाइल टू IPMD, CSIR, INSOC बिल्डिंग 14, सत्संग विहार मार्ग, नई दिल्ली
Filed Date:  18 मई, 2010
कापीराइट संख्या029CR2009

 

उपलब्धियां

• न्यूट्रीएल-जीआईएस: ए टूलफॉरअसेसमेंटऑफ़एग्रीकल्चरलरनऑफ़ एंड न्यूट्रिएंटपोल्लुशन इन ए वाटरशेड

• जीआईएसइंटीग्रेटेडनॉइज़सिमुलेशनसॉफ्टवेर (GNSS)

•जॉसपटियालवेबएप्लीकेशनफॉर  जोन  एंड  साइटसिलेक्शनऑफ़ग्राउंडवाटररिचार्ज  (N-GWAR)

परियोजना के काम के लिए प्रशंसा पुरस्कार

जनवरी 19 -21, 2011के दौरान नीरी, नागपुर में आयोजित जल संसाधन प्रबंधन और उपचार तकनीक पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन मेंभारत में पुरीके तटीय भूजल के मूल्यांकन एवं प्रबंधन के लिए जीआईएस आधारित मॉडलिंग दृष्टिकोण, पोस्टर प्रस्तुति के लिए दूसरा पुरस्काररितेश विजय और पी.के. मोहपात्रा

 

 

पोस्टर प्रेझेंटेशन के लिए तृतीय पुरस्कार

नीरी, नागपुर, में दिनांक 20 अक्टूबर, 2010 को आयोजित भूजल संसाधनों के सतत विकास पर इंडो-इतालवी कार्यशाला में रितेश विजय, पी.आर. पुजारी और पी.के. मोहपात्रा द्वारा पुरी शहर में भूजल संसाधनों पर मानव द्वारा भूगर्भिक गतिविधियों पर प्रभाव

पर्यावरणीय समस्या हल करने की दिशा में जीआईएस अनुप्रयोग में अभिनव दृष्टिकोण के लिए विशेष पुरस्कार

• नोएडा (एनसीआर), भारत में दिनांक 21-22 अप्रैल 2010 के दौरान आयोजित11 वें ईएसआरआई इंडिया यूजर कॉन्फ्रेंस में, "न्यूट्रीएल-जीआईएस: ए  टूलफॉरअसेसमेंटऑफ़एग्रीकल्चरलरुओफ़फ़  एंड  न्यूट्रिएंटपोल्लुशन  इन  ए  वाटरशेड" आशीश शर्मा, आभा सरगांवकर, बरखा राठी और संजय कोथ ईएसडीएम डिवीजन, नीरी, नागपुर द्वारा

पोस्टर प्रेझेंटेशन के लिए तृतीय पुरस्कार

  • भारत के नोएडा (एनसीआर) में दिनांक 21-22 अप्रैल, 2010 के दौरान 11 वें ईएसआरआई इंडिया यूजर कॉन्फ्रेंस "जीआईएस-आधारित ध्वनि सिमुलेशन मॉडल का विकास" में पोस्टर प्रस्तुति के लिए वीणा सरदार, आशीश शर्मा, रितेश विजय एवं आरए सोहिनी, ईएसडीएम डिवीजन नीरी, नागपुर ।