LOGO CSIR
LOGO NEERI

परिचय

सीएसआईआर-नीरी ने देश में समरूप तथा विषम औद्योगिक समूहों के लिए कॉमनएफ्फ्लूएंटट्रीटमेंट  प्लांट (सीईटीपी) को डिजाइन एवं कमीशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। विभिन्न औद्योगिक समूहों में सीएसआईआर-नीरी द्वारा तैयार और चालू किए गए सीईटीपी ने पानी और मिट्टी प्रदूषण को रोकने में मदद की। पाली में 767 छोटे औद्योगिक इकाइयां, बालोत्रा ​​में 249 और दिल्ली के एनसीटी में 2000 से अधिक औद्योगिक इकाइयां सीईटीपी के कारण पुनर्जीवित हुईं और इसके परिणामस्वरूप हजारों श्रमिकों के रोजगार को संरक्षित किया गया, क्योंकि प्रदूषण की रोकथामहेतु बनाए गएमापदंडों का अनुपालन नकरने के कारण यह औद्योगिक इकाइयां बंद होने की कगार पर थीं।सीईटीपी ने अपशिष्ट उपचार में 'स्केल के अर्थशास्त्र' को प्राप्त करने में भी मदद की, जिससे प्रदूषण कमकरने हेतु लगने वाली लागत कम हुई। सीएसआईआर-नीरी ने सीईटीपी केव्यवहार्यता मूल्यांकन अध्ययनकिया है जिसमें उत्पन्न अपशिष्ट के प्रकार तथा मात्रा, भविष्य में अपशिष्ट भार का अनुमान, उपचार के विकल्प की पहचानतथाक्लीनर प्रौद्योगिकियों के मूल्यांकन शामिल हैं। इसने तिरुपुर और लुधियाना में कपड़ा उद्योगों के सीईटीपीहेतु अपशिष्ट जल प्रबंधन के लिए शून्य तरल डिस्चार्जका विकल्प उपलब्ध कराए हैं। हाल ही में, संस्थान ने उच्च सीओडी और अमोनिया असर वाले अपशिष्ट जल के उपचार के लिए सेपरेटेडहेराट्रॉफ़िक-ऑटोट्रॉफिक प्रतिक्रियाओं' के माध्यम से दो अलग-अलग जैव-ऑक्सीकरण(टीएसबी) प्रक्रिया विकसित की है।यह प्रक्रिया रासायनिक उपचार तथा डीनाइट्रीफीकेशनस्टेप को समाप्त करती है। टीएसबी प्रक्रिया को नागार्जुनएग्रोकेमिकल लिमिटेड, श्रीकाकुलम, आंध्रप्रदेशमें लागू किया गया है। संस्थान ने जैव अपकर्ष को सुधारने के लिए रासायनिक उद्योगों से अपरिष्कृत अपशिष्ट जल के पूर्व उपचार के लिए एक इलेक्ट्रो-ऑक्सीकरण प्रक्रिया भी विकसित की है।प्रक्रिया जैव-अनुकूल अपशिष्ट जल प्राप्त किया जाता है।यह प्रक्रिया गुजरात के नंदेशारीसीईटीपी में लागू की गई है।सीएसआईआर-नीरी ने हाई रेटट्रांसमिशनसिस्टम(एचआरटीएस) के माध्यम से ऑटोमोबाइल उद्योग के उपचारीतप्रवाह के लिए उपचार तथा शून्य निर्वहन के लिए एक डिजाइन विकसित किया है और यह तकनीक मेसर्स महिंद्रा वेहकलमैन्यफैक्चरलिमिटेड, पुणे में लागू की गई है। संस्थान ने एक 'फाइटोरिड अपशिष्ट जल उपचार तकनीक' विकसित की है जिसमें नगरपालिका, शहरी, कृषि और औद्योगिक अपशिष्ट जल के उपचार के लिए विशेष रूप से डिजाइन किए गए एक वेटलैंडशामिल है। यह तकनीक देश के विभिन्न उद्योगों द्वारा कार्यान्वित की गई है। 

      पर्यावरण के मानकों के अनुरूप न होने के कारण तमिलनाडु में चमड़े का कारख़ानों को बंद किया जा रहा था। संस्थान द्वारा इस समस्या के लिए महत्वपूर्ण और एकीकृत तकनीकी समाधान प्रदान किया गया जिसके लिए संस्थान को सीएसआईआर की ओर से विशेष प्रौद्योगिकी पुरस्कार प्राप्त हुआ था। समय पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी के हस्तक्षेपसे टेनरीज की सिफारिश प्रस्तुत की गई, जिससे कमजोर वर्ग के कर्मचारियों की बेरोजगारी में कमी आई और निर्यात से पर्याप्त विदेशी मुद्रा का होने वाला नुकसान टालाजा सका। 

परामर्श क्षेत्र

अपशिष्ट जल उपचार और प्रबंधन:

  • अपशिष्ट जल (ईटीपी एस एंड सीईटीपी) के लिए बेसिक इंजीनियरिंग डिज़ाइन
  • आधुनिक प्रक्रिया और उपचार प्रौद्योगिकी के अन्तर्गत प्रचलित उपचार संयंत्रों केनवीनीकरण और उन्नयन।
  • विभिन्न इंडस्ट्रीज और टेक्नोलॉजीज के लिए निर्वहन मानदंडों के साथ अनुपालन की सुविधा प्रदान करने के लिए शून्य निर्वहनआधारित अपशिष्ट जल उपचार प्रौद्योगिकी
  • भौतिक-रासायनिक रूपांतरण
  • बायोकॉनवर्जन
  • रीसायकल और पुनः प्रयोग हेतु
  • संसाधन पुन:प्राप्ती

अनुसंधान क्षेत्र

बायोडिग्रेडेशन मेंइंडक्शन / एनहान्समेंटद्वारा रंग और सीओडी हटाने हेतु अभिनव उपचार प्रौद्योगिकी:
 

  • यूवीफोटोकॅटालेसीस
  • विषाक्तीकरण और बायोडग्रेडेशन
  • सौर फोटोकॅटालेटिसिस
  • रंग निष्कासन
  • इलेक्ट्रोकेमिकल पद्धति
  • इलेक्ट्रोऑक्सीडेशन
  • इलेक्ट्रोकोओग्यूलेशन
  • इलेक्ट्रोफ्लोटेशन
  • इलेक्ट्रो-फेंटोन प्रोसेस
  • कैटेक्टिक गीले ऑक्सीडेशन
  • ओजोनेशन
  • क्लॅरीफायरके डिजाइन में संशोधन के माध्यम से ठोस-तरल पृथक्करण
  • हाइड्रोलिक एनर्जी डिससीपेशन
  • मीनीमायजेशन ऑफ टरब्युलेंस
  • पोषक तत्व निष्कासन

उपोत्पाद 

 

  • अपशिष्ट जल उपचार प्रौद्योगिकी का स्केल-अप
  • अपशिष्ट जल उपचार प्रक्रियाओं का मॉडलिंग
  • अपशिष्ट जल से घुलित ठोस हटाना
  • अपशिष्ट जल से पोषक तत्वों को निकालना
  • वाष्पशील कार्बनिक यौगिकों की निगरानी एवं निष्कासन
  • अपशिष्ट जल उपचार के लिए प्राकृतिक शोधन प्रणाली
  • उपचारितअपशिष्ट जल का भूमि आवेदन
  • अपशिष्ट जल से रसायन और मूल्य-वर्धित वसूली
  • जल, मलजल और उपचारितइफ्ल्युएंटकीटाणुशोधन

भारी धातु हटाने के लिए अधिशोषक (एडझॉरबंट)

चालु परियोजना

  • मैसर्स गुजरात इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड (जीईबी), गांधीनगर, गुजरात में पर्यावरण प्रबंधन प्रणाली का मूल्यांकन

 

  • अंकलेश्वर, गुजरात में कॉमनएफ्लुएन्टट्रअउपचार संयंत्र की पर्याप्तता एवं प्रभावकारीता तथा दक्षता का उन्नयन
     
  • पली और बालोत्रा में राजस्थान में लघु स्केल टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज के लिए कॉमन एफफूमेंट ट्रीटमेंट प्लांट्स (सीईटीपी) की डिजाइन और कार्यान्वयन

    प्रमुख चालू परियोजनाएं
     

  • टेक्सटाइल के अपशिष्ट जल से रंग हटाने के सोलर फोटोकेटलाटिकटिक ट्रिमेंट
     
  • एमसीसी-पीटीए इंडिया कार्पोरेशन प्राइवेट लिमिटेड (एमसीपीआई), हल्दिया, पश्चिम बंगालमें कॉमन एफफूमेंट ट्रीटमेंट प्लांटकी पर्याप्तता एवं प्रभावकारीता मूल्यांकन तथा एफफ़्लुएंट क्वालिटी में सुधार।
  • ठोसतथा तरल पृथक्करण के लिए एक बेहतर माध्यमिक क्लैरिफायर

राष्ट्रीय प्रकाशन

दिल्ली के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में सीवर नेटवर्क में प्रदूषक और गैसीय उत्सर्जन के आकलन में प्रदूषक और गैसीय उत्सर्जन का मूल्यांकन (जर्नल ऑफ एनवायरमेंटलइंजीनियरिंग एण्डसायंस)
(एन एन राव, पीआसवले, एम कार्तिक, आरधोडपकर, जी पाटकर और टी नंदी, खंड 54, नंबर 2 पृष्ठ 206-216, 2012)
एग्रोकेमिकल उद्योग के लिए टीएसबीआर प्रणाली-व्यवहार्यता और कार्यान्वयन
(मानेकरपी,बिस्वास, आरऔर नंदी, 2013)
 

अंतरराष्ट्रीय – प्रकाशन

 

भारत में मिश्रित घरेलू-औद्योगिक अपशिष्ट जल के लिए प्रभावी कार्बन और पोषक तत्व उपचार समाधान (वॉटरसायंस एंड टेक्नॉलॉजी)
(साहाएस., बढेएन., सियंटजेन्स, डी, वेलमैंक, एस ई, बिस्वास, आर, और नंदी, 72 (4): 651-7, 2015)
 

मेथनॉलइंडयुसेस लो टेंपरेचररिज़िल्यन्टमेथनोजेंसएंड इंप्रुवमिथेनजनरेशनफ्रॉमडोमेस्टीकवेस्टवॉटरएट लो टुमॉडरेटटेंपरेचर(बायो-रिसोर्सटेक्नॉलॉजी)
(साहाएस, बढेएन, डेविरीज़, जेबिस्वासआर, और नंदी, 18 9, 370-378, 2015)
 

रोलओफअल्गलबायोफिल्म इन इम्प्रोविगद परर्फोरमेंसओफफ्रीसरफेस, अप-फ्लोवकंस्ट्रकटेडवेटलैंड

(बधे, एन, साहा, एस, बिस्वास, आर।, और नंदी, 16 9, 596-604, 2014)
 

इफेक्टओफ सम पोल्यरायजेशनमेथडसऑनद इंप्रिटिंगपरफॉरमंस ऑफ मॉलेक्युरलीओफमोलेकुलर्ल्रीइम्प्रीमेंटेडपॉलीमरफॉरमॉलेक्युलरलीइम्प्रीटेडसॉलीड फेल एक्सट्रॅक्श्नअप्लीकेशन(जर्नल ऑफ चायनीजएडवांस्डमटेरीयलसोसायटी)

मॉलेक्युलरलीइम्प्रीटेडमायक्रोस्फीयर एंड नॅनोपार्टिकल्सयुजींगप्रेसीपीटेशनपॉलीमरायजेशनमेथडफॉरसिलीक्टीवएक्सट्रॅक्श्न ऑफ गॅलिकएसिडफ्रॉमएमब्िलकाऑफीसीनॅलिस(फूड केमिकल टॉक्सिकोलॉजी)
(सुष्मा परदेसी, रीता धोडपकर, अनुपमा कुमार, खंड 146, 385-393, 2014)
 

इनफ्लएन्स ऑफ पोरोजीन्सऑन द स्पेसीफीकरीकगनीशन ऑफ मॉल्युकीलरलीइमप्रिटिडपॉली(अफ्रीकीन जर्नल ऑफ बायोटेक्नोलॉजी, केन्या)
(सुष्मा परदेशी, रीता धोडपकर और अनुपमा कुमार, खंड 21, 1, 13-20, 2014)
 

स्पेक्ट्रोकेमिकाएक्टाक्वांटम केमिकल डेंसिटीफंक्शनलथेरयरीस्टडीजऑनमॉलेक्युलरस्टक्चरल एंड वायब्रेशनल ऑफ गॅलिकएसिडइंप्रिटिडपॉलीमर्सस्पेक्ट्रोकेमिकाएक्टापार्ट ए  मॉलेक्युलर एंड बायोमॉलेक्युलरस्पेक्ट्रोस्कोपी(न्यू इंडिया पब्लिशिंग एजेंसी, नई दिल्ली)
(सुष्मा परदेसी, रीता धोडपकर, अनुपमा कुमार, 2013)
 

कॅरक्टरायजेशन एंड फोटोकॅटालिक्टीकअप्लीकेशन ऑफ कार्बोनेटमॉडीफाइड(मटेरीयलसायंसफोरम)

(रीता संदीपधोडपकर, नागेश्वर राव नेती, प्रीपरेशन, खंड 764, 21 9 -235, 2013)

स्टेबलपरफॉरमन्स ऑफ नॉनएयरेटेडटुस्टेजपारशीयलनायट्रेशन/एनामॉम्क्स(PANAM) वीथमिनीमलप्रोसेसकंट्रोल(माइक्रोबियलइकॉलॉजी)
(समिक बगची, रीमा बिस्वास, सेज्रिड ई, वेलाइंक, कुणाल रॉय चौधरी और तापस नंदी, 5 (3), 425-432, 2012)
 

ऑटोट्रोफ़िकअमोनियारीमुवलप्रोसेस–इकॉलॉलीटुटेक्नॉलॉजी(क्रिटिकलरिव्युज इन इनवॉयरमेंटलसायंस एंड टेक्नॉलॉजी)
(समिक बागची, रीमा बिस्वास, और तापस नंदी, 42 (13), 1353-1418, 2012)

वॅलीडेशन ऑफ कंप्युटेशनलएप्रोचटुस्टडीमोनोमीयरसीलेक्टीवीटीटुवर्डस द टेंप्लेटगॅलीकएसीडफॉररॅशनलमॉलेक्युलरलीइंप्रींटेडमॉलेक्युलर डिजाइन (जर्नलऑफ मॉलेक्युलरमॉडेलींग)

(सुषमा परदेशी, राजेंद्र पात्रीकर, रीता धोडपकर, ऑरअनुपमा कुमार, खंड 18 अंक 11, पी 47 9 7, 2012)
 

स्टडीजऑनमॉलेक्युलररीकगनीशनएबीलीटीज ऑफ गॅलीकएसिडइप्रींटेडपॉलीमरप्रिपेअर्डयुजिंगमॉलेक्युलरइप्रींटिंगटेकनीक(ऐड्सॉर्प्शनसायंस एंड टेक्नॉलॉजी)
(सुष्मा परदेसी, अनुपमा कुमार, रीता धोडपरकर, वॉल्यूम30, नंबर 1, 2012)

क्लोजिंगवॉटरलुप इन ए पेपर मील सेक्शनफॉरवॉटरकंझरवेशन एंड रीयुज(डिसॅलीनेशन)

(मानिकवासगाम कार्तिक, रीता धोडपकर, प्रवीण मानेकर, पवन अस्वल, तापस नंदी, 281,172-178, 2011)
 

नॉवेल टुस्टेजबायोऑक्सीडेशन एंड क्लोरीनेशनप्रोसेसफॉर हाय स्ट्रेथहजारर्डसकोलकार्बनायझेनएफलुऐंटजर्नल ऑफ हैज़र्डसमटेरियल)
(प्रवीण मानेकर, रिमाबिस्वास, मानिकवासगम कार्तिक, तापस नंदी, 18 9, 92-99, 2011)
 

स्टॅबिलीटी एंड माइक्रोबायलकम्युनिटी स्ट्रक्चर ऑफ ए पारशियलनाइट्रिफिंगफिक्सड फिल्म बायोरिएक्टर इन लांग रन  (बायो-रिसोर्स टेक्नोलॉजी)
(रिमा बिस्वास, समिक बागची, प्रियंका बिहारिया, अर्नाब दास और तापस नंदी, 102 (102), 2487-24 9 4, 2011)
 

युजिंगइंटग्रिटेडएचपी एंड जीआरएअप्रोचफॉरऑप्श्नलसिलेक्श्न ऑफ फुलस्केलटॅनरीएफ्लुएन्टट्रिटमेंटअलटरनेटिवज. एक्सपर्टसिस्टमविथअप्लीकेशन

जी आरपोफली, ए बी चेल्यानी और आर एस धोडपकर, 38, 1088 9-108 9 5, 2011)
 

ए किमोबायोलॉजीकलट्रिटमेंट ऑफ फ्लिवगॅसपावरप्लान्टविथ ए रिकवरी ऑफ वॅल्युएडेडप्रॉडक्टस

(इंटरनेशनल जर्नल ऑफ एनवायरनमेंटल साइंस एंड पोल्यूशन)
(रीमा ए बिस्वास, राम ए। पांडे, तपन चक्रवर्ती और सुकुमार देवोत्ता, 43 (1/2/3), 12 9 -142, 2010)
 

ट्रि‍टमेंट ऑफ वेस्टवॉटरफ्रॉम ए लो टेंपरेचरकारबनायझेशनप्रोसेसइंडस्ट्रीथ्रुबायोलॉजीकल एंड केमिकल ऑक्सीडेशनप्रोसेसफॉररीसायकल/रीयुज: ए केस स्टडीवॉटरसायंस एंड टेक्नॉलॉजी)
(आर। बिस्वास, एस। बगची, सी। यूवरार, डी। गुप्ता और टी। नंदी, 61 (10), 2563-2573, 2010)
 

अलक्लीनीटी एंड डीओएजकंट्रोलींगपॅरामीटरफॉरअमोनीयरिमुवलथ्रुपारशरीयलनायट्रेशन एंड एनरॅमॉक्सइन ए सिंगलस्टैजबायारिएक्टर(जर्नल ऑफ इंडस्ट्र‍ियलमायक्रोबायोलॉजी एंड बायोटेक्नॉलॉजी)(समिकबागची, रिमाबिस्वास, तापस नंदी, 37 (8), 871-876, 2010)
 

स्टार्टअपएंडस्टॅबलायढेशनऑफ एनॉमॉक्सप्रोसेसफ्रॉमए नॉनएक्लीमटीझडस्लज इन सीएसटीआर(जर्नल ऑफ इंडस्ट्र‍ियलमायक्रोबायोलॉजी एंड बायोटेक्नॉलॉजी)

(समिक बागची, रीमा बिस्वास, तापस नंदी, 37 (9), 943-952, 2010)
 

मॉलेक्युलरइंप्रिंटिंग: मीमीकिंगमॉलेक्युलररिसेप्टरफॉरएन्टीटॉक्सीडण्टमटेरियलसाइंस फोरम)
(सुष्मा परदेशी, अनुपमा कुमार, रीता धोडपरकर, 675-677, 521, 2011)
 

एनओवरवियुऑफ सस्टेनॅबिलीटी ऑफ कॉमनएफ्लुमेंटट्रिटमेंटप्लांटफॉरक्लस्टराऑफ टॅनरिजइनवायारोंमेंट, डेवलपमेंट एंड सस्टेनॅबिलीटी(डिसैलिनेशन)

 

(स्मितामसि, सुजाता वाघमारे, नितिनगेदम, रोहित मिश्रा, रीता धोडपेकर,एनएनआरओ और तापस नंदी, 2010)

इमप्कॅट ऑफ इलेक्ट्रोऑक्सीडेशनऑनकंबाइडफीजीकोकेमिकल एंड मेमब्रेनट्रीटमेंटप्रोसेस: ट्रिटमेंट ऑफ हाय स्ट्रेन्थ केमिकल इंडस्िर्टीवेस्टवॉटर

सिंथेसीस ऑफ सीडॉप्डTiO2नॅनोपार्टीकलस्रबाय नॉवेल सोल-जेल पॉलीकंडेनसेशन ऑफ रीसॉर्सीनॉलविथफार्मलडीहाइडवीथविजिबल लाइट फोटोकॅटलिस

(सिन्थेटिक, रिएक्शन,इनऑरगॅनीक,मेटॅलिक,ऑरगॅनिक,केमिकल) (नागेश्वर राव नेती, रोहित मिश्रा, प्रभाकर कुमार बेरा, रीता धोडपकर, सनेजाबकार्दिया, ज़ेडेंकबास्टल, वॉल्यूम40 अंक 5, 328, 2010)

प्रशिक्षण कार्यक्रम

 

जल गुणवत्ता की मॉनीटरिंग, निगरानी एवं उपचार प्रौद्योगिकियां (आर्सेनिक, फेरस तथा आयरन), वॉटरसप्लायइंजीनियर्स, रायपुर, सीजी, 14-16 जून, 2011

सुविधाएं

 

एचपीसीएलवीथयुवी

 

सॉलीड फेल एक्सट्रेक्श्न

 

मायक्रोववडायजेशनक्लोज्डसिस्टम

अपशिष्ट जल प्रौद्योगिकी में प्रमुख विश्लेषणात्मक सुविधाएं

   

पेटेंट

  • एनएपरेटसफॉरडिकलरायजेशन ऑफ एनलायटिस एंड ए प्रोसेसदेयरऑफ इंडियन पेंटेटअप्लीकेशनसंख्या 0373DEL2010
  • कार्बन बेडइलेक्ट्रोलाजरफॉरट्रिटमेंट ऑफ लिक्विडएफ्लुऐंट एंड प्रोसेसदेयरऑफपेटेंट अप्लींकेश नंबर 13/992,064
  • कार्बन बेडइलेक्ट्रोलाजरफॉरट्रिटमेंट ऑफ लिक्विडएफ्लुऐंट एंड प्रोसेसदेयरऑफ पेटेंट अप्लींकेश नंबर 11 7 9 631.1
  • कार्बन बेडइलेक्ट्रोलाजरफॉरट्रिटमेंट ऑफ लिक्विडएफ्लुऐंट एंड प्रोसेसदेयरऑफ पेटेंट अप्लींकेश नंबर 2013-542620

उपलब्धियां

 

तकनीकी उत्कृष्टता पुरस्कार

साउथ इंडियन शुगरमिल्स एसोसिएशन (एसआईएसएमए), चेन्नई जुलाई 2002तमिलनाडु में डिस्टिलियरों के पर्यावरण संबंधी पहलुओं के लिए एकीकृत तकनीकी समाधान प्रदान करना और (क्षेत्र के लिए अपने मिशन को जारी रखते हुए) कृषि क्षेत्र में संसाधन सामग्री के रूप में डिस्टीलरीस्पेन्शवॉश का प्रभावी उपयोग के लिए (जिससे अपशिष्ट से धन कार्यक्रमों के लिए "रीसायकल-रियूस-रेड्यूस" की अवधारणा को एकीकृत किया जा सके)

विशेष प्रौद्योगिकी पुरस्कार

(नीरी एवं सीएलआरआई) वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली 1998 संयुक्त रूप से पर्यावरण मानदंडों के साथ गैर-अनुरूपता के कारण बंद किए गए तमिलनाडु में टैनरीज को महत्वपूर्ण और एकीकृत तकनीकी समाधान प्रदान करने के लिए।